Chai pe Shayari – तेरा झूठा कप आज भी बैडरूम में संभाल रखा है

Chai pe Shayari – स्वागत है आपका RecipeHindi123.com पर| आज हम आपके लिए लेकर आये है कुछ Chai ki shayari collection. आज का topic काफी अलग है| यहाँ हमने पूरी कोशिश की है चाय और ज़िन्दगी की चुस्की को एक साथ आपके सामने रखने की! उम्मीद करते है आपको ये chai par shayari पसंद आएगी|

Chai pe Shayari in hindi

# अक्सर मोहब्बत में लोग सनम की कोई न कोई चीज़ संभाल के अपने पास रखते है,
कोई प्यार का पहला खत रखता है,
कोई पहला दिया गया तोहफ़ा रखता है,
हमने भी रखा है…!
सनम के होंठो से छुआ हुआ उनका झूठा चाय का कप..!

# तेरे चाय पीने के उस अंदाज़ को आज भी दिल में दबा रखा है,
तेरे होंठो से छुआ हुआ वो झूठा cup आज भी bedroom में संभाल रखा है..!!

# Tere chai peene ke us andaz ko aaj bhi dil me daba rakha hai,
tere honto se chupa hua wo jhuta cup aaj bhi bedroom me sambhal rakha hai..!

Chai par shayari

एक अमीर मैडम एक दिन स्टेशन पर एक coolie पर चिल्ला रही थी और उसके गरीबी का मज़ाक उड़ा रही थी| Coolie की गलती सिर्फ इतनी थी की उस मैडम का suitcase गलती से निचे गिर गया था| इस पर मैडम भड़क गयी और coolie को खरी-खोटी सुनाने लगी और गरीबी का मज़ाक उड़ाने लगी| इतने में coolie ने जवाब दिया-

# तमीज़ जरा ठंडा रखे मैडम,
गरम तो हमे सिर्फ चाय ही पसंद है..!

# Tameez jara thanda rakhe madam,
garam tou hume sirf chai hi pasand hai…!

Shayari on chai

एक चाय का पागल दीवाना चाय की कप को हाथ में लेकर बोलता है-

# अजीब सा नशा है तेरे गरम बदन में,
तेरे बिना मेरी सुबह शुरू होती नहीं,
और शाम कटती नहीं..!

# Ajeeb sa nasha hai tere garam badan me,
tere bina meri subah shuru hoti nahi,
aur shaam kat ti nahi..

chai par shayari in hindi

Chai shayari in english

# चाय की चुस्की के साथ मैं कुछ गम भी पीता हूँ,
मिठास कम है मेरी ज़िन्दगी में,
लेकिन फिर भी zinda-dili से जीता हूँ..!

# Chai ki chuski ke sath main kuch gam bhi peeta hu,
mithas kam hai meri zindagi me,
lekin phir bhi zinda-dili se jeeta hu..

Chai lover shayari (Poem)

# ऐ ज़िन्दगी आ मिल कभी,
बैठ के चाय पीते है,
आखिर तू भी तो थक गयी होगी,
भागते भागते..!

# Ae zindagi aa mil kabhi,
baith ke chai pite hai,
Aakhir tu bhi tou thak gayi hogi,
bhagte bhagte..!!

# वो तेरी balcony और मेरी एक cup गरम चाय,
हर सुबह तेरी balcony मुझे बुलाए…!
चाय से तो मेरी प्यास ना बुझे,
पर तुझे हर सुबह नहाने के बाद balcony में देख मेरी सारी प्यास बुझ जाये..!
….वो तेरी balcony और मेरी एक cup गरम चाय,
हर सुबह तेरी balcony मुझे बुलाए…!
तू हर सुबह जब balcony में आये और अपनी ज़ुल्फ़े लहराए,
यहाँ चाय पीते पीते गरम cup से मेरे होंठ जल जाये..!!
….वो तेरी balcony और मेरी एक cup गरम चाय,
हर सुबह तेरी balcony मुझे बुलाए…!

Shayari on Neend (sleep)